"चन्द" का संशोधनहरू बिचको अन्तर

कुनै सम्पादन सारांश छैन
कुनै सम्पादन सारांश छैन
कुनै सम्पादन सारांश छैन
*#ग) देउवा रजवार (डोटी बाट जागिरको लागि कुमाऊ गएका) को वंशज ( कश्यप गोत्रीय ,सूर्यवंशी ) वर्तमानमा चन्द लेख्छन ।
 
क ) चम्फावतका चन्द राजाका वंशज बर्तमानमा सिंह ,रौतेला र कुँवर थर लेख्ने गर्दछन । पुराना ताम्रपत्रमा यिनले आफ्नो थर चंद/चन्द्र लेखेको भेटिन्छ । ताम्रपत्रमा सोम्वंश उद्भव भनेर लेखेको छ । यस वंशज को बिषयमा प्राचीन सोर (वर्तमान पिथौदागड ) को बिषयका इतिहास लेख्ने डा रामसिंह ले आफ्नो सोर (मध्य हिमालय ) का अतीत (प्रारम्भ से १८५७ ई तक) पुस्तकको पेज २३०मा बैताडा चन्द र कुमाऊ को चन्द राजवंश भिन्न हुन् कसैले एकै हुन् भन्दछ भने त्यो सरासर गलत हुन्छ भनेका छन् । उनी भन्दछन बहुधा लोग कुमाऊ के चन्दो और काली पार (बैतडी) के चन्दो रजवारो को समान मुलका या स्वरा (सं सहोदर) या सगोत्री बान्धव समझने की भुल करते है , जो ऐतिहासिक सत्यका बिपरित है । काली पारके चन्दो से कुमाऊ के चन्द पुराने समय से हि बैबाहिक सम्बंधो से बन्धे थे । सोर के जीबी सलमोडा मे चन्दो के वंशधर रौतेला हि कहे जाते है ।<ref name="डा रामसिंह">डा रामसिंह सोर (मध्य हिमालय ) का अतीत (प्रारम्भ से १८५७ ई तक) पुस्तकको पेज २३०मा</ref> किन्तु कुँवर गुसाई शब्द भी अपने कुलके कनिस्ट सदश्य के लिए प्रयुक्त करते है भन्दछन । सोर को जीबी सलमोड़ा का रौतेला हरु कश्यप गोत्र र चन्द्रवंशी भएको सम्बन्धित स्थान बाट थाहा हुन्छ । कुमाऊ चम्फावत को चन्द राजवंश का ताम्रपत्रमा वंश उल्लेख भएपनि गोत्र उल्लेख भएको प्रमाण भेटिएको छैन । उत्तरखंड काँशिपुर निवासी माननीय करण चन्द सिंह बाबा ( के-सी बाबा सिंह )।चम्फावत कुमाऊका चन्द राजाको वंशज हुनु हुन्छ भन्ने मान्यता छ । उहा पनि आफुलाई कुमाऊ चम्फावत को चन्द राजवंशको सन्तति बताउनु हुन्छ । उहा संग सोधपुछ गर्दा उहाले आफुलाई कश्यप गोत्रीय चन्द्रवंशी बताउने गरेको कारण र बैतडी बास्कोटका इतिहास ब्यख्यता सुबेदार दानबहादुर चन्द , अर्का सुब्बा दानबहादुर चन्द र स्वराड़ी जनकबहादुर चन्द को भनाइ पनि आफ्नो गौतम गोत्रीय वंशज चफावत कुमाऊ को चन्द राजाको वंशज नभएको तर बैबाहिक ईस्ट भएको भन्ने भनाईले कुनै अन्य प्रमाणित स्रोत बाट गोत्र प्रमाणित नभए सम्मन कुमाऊ चम्फावत को चन्द राजाको गोत्र कश्यप र वंश सोम (चन्द्र) वंश हो ।
;यीकुमाऊ चम्फावत को चन्द राजवंश संग सम्बन्धित ताम्रपत्र कोताम्रपत्रको प्रतिलिपि (उतार )
 
===१) चम्फावतका चन्द राजाको सेलौनी, कुंवर धन्यचन्द्रको ताम्रपत्र<ref name="श्री गोविन्द बल्लभ जोश > श्री गोविन्द बल्लभ जोशी (अब स्वर्गीय) सेलोनी पिठौरागढ । डाँ.रामसिंह, सोर(मध्य हिमालय) का अतित पेज ३६८बाट उतार </ref>===
*ॐ ।। स्वस्ति ।। श्री शाके १३६७ समये जेष्ट वदि दिन ११ गते शुक्रवास
*रिठु भडारि खर्क को क्षिर बोहरा लीखितं जइदास ।। शुभमस्तु ।।
*श्री कर रुप कुमाइ रैसु लखु बिष्ट साक्षि
===२) कुमाऊ चम्फावत जगतचन्दका ताम्रपत्र शाके १६३४(वि.स.१७६९)===
*यह ताम्रपत्र कोट भ्रामरी (कोट की माई) मन्दिर के सम्बन्ध मे जारी किया गया है ....
*हिन्दी अनुवाद ः महाराजाधिराज श्री राजा जगतचंद देव जी ने दान संकल्पके साथ महामाई को कत्यूरके गर्खे(परगना) मे तीन आली रतोडो और तीन आली देउरडो की अर्थात कुल ६ *आली चढाई इससे प्रति दिन दो सेर चावलका भोग लगेगा और दो बार दिया जलेगा । देवीके मन्दिरमे पूजा अच्छी तरह होनी चाहिए । इन ६ आली से लगे गाड घट लेख इजर भी *दान में दिए । देवताके हिस्से मे चोरी नही करनी चाहिए । इस भूमिदानके साक्षी है ः महाराज कुमार श्री देवसींग गुसाई, श्री वल्लव पाण्डे पुरोहित लक्ष्मीपति पाण्डे गुरु पहाडी सींग *हरिमल गुसाई मनीकंठ अधिकारी मनींक विष्ट भवानन्द जोशी, गोपी साहु केशव रनजीत भण्डारी गिरिधर सेज्याली गोपालकोटको सिकदार सालीवान वेलाल ।
*बांये नाम उत्कीर्ण है देवसिंग गुसाई
*मानीक विष्ट
===३) कुमाऊ चम्फावत देवीचन्द्र ताम्रपत्र शाके १६४८ (वि.स.१७८३)===
*श्री रामचन्द्रके चरणो में भक्ति रखने वाले सोमवंश मे उत्पन्न महाराजाधिराज राजेन्द्र श्री महाराजाधिराज श्री राजा देवी चन्द्र देव ने श्री देवी माहामाई के लिए कत्यूरमें पाँच आली गाँव *चढाये । हाट मे उपाध्याय वालाखेत और बोकसाड के परगने में कमलपति विष्ट वाला मौजा भूतौला चढाया । इन आली से सम्बन्धित धुरा, डाडा गाड घट लेक इजर आदि सभीदान हो *गये । इस भूमिसे अभितक राज्ये को नाठ नठाली गडेली पेटिली स्वर्ग से गिरी वस्तु पातालकी निधि घोडालो कुकुरालो बाजदार बजनीया आदि कर एवं दस्तुर मिलते थे वे सव माफ कर *दिए गये है और भूमि सम्बन्धी सभी विवाद निबटा दिए गये हैं ।
*प्रतिदिन भोग में पकने वाले चावल दाल नमक घी तेल आदि की मात्रा भी लिखदी गई है । मालके गाँव जो तेल मिले उससे सुवह साम के दीपक को व्यवस्था के अतिरिक्त चार्तुमास *मे अखण्ड दीपक भी जलाना है श्री खण्ड चन्दन गुगुल धुप केसर वस्त्र आदिकी व्यवस्था होनी हैं । इन सबके लिए भण्डारको सुव्यवस्थित रखना है ।
"https://ne.wikipedia.org/wiki/विशेष:MobileDiff/721380" बाट अनुप्रेषित